Maithili Chhath Geet (Kavi Ujjwal K Jha)

मैथिली छठ गीत

चल छठी मइया के घाटे, सब विपदा तोहरदूर हेतउ
ल डाला छइठक माथे, जे मंगबै तोहर पूर हेतउ
चल छठी मइया के घाटे -2
डाला ल क एला घाट पर तू , माँ के पूइज जेबै घर पर तू
किछ माइंग लिहै मइया स् , खाली झोली तोहर भइर जेतउ
चल छठी मइया के घाटे , सब विपदा- 2
छे बालक भेलउ भूल गलती , जा माँ स् तू करिहे रे विनती
ई छठी मइया के घाटे , भेद छोट आ पइगक नइ हेतउ
चल छठी मइया के घाटे——— सब विपदा – 2
रे उज्जवल नींद भेर मतल छै , छोइर (नाम) के कतअ सुतल छै
आब उठ आ चल छठी घाटे , सब इच्छा तोहर पूर हेतउ
चल छठी मइया के घाटे — सब विपदा—- हेतउ – 2
ल डाला छइठक माथे——-
चल छठी मइया के घाटे ——

© ‌सर्वा‌‌धिकार सुरक्षित – @ उज्जवल कुमार झा
पता – बसुआरा दरभंगा
सम्पर्क सुत्र – 8617783868
( तर्ज – चल तू मइया दरबारे )

Leave a Reply

Your email address will not be published.